बांस की लकड़ी को क्यों नहीं जलाया जाता है, इसके पीछे धार्मिक कारण है,वास्तु या वैज्ञानिक कारण ?

Spread the love
  • 0
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हम अक्सर शुभ(जैसे हवन अथवा पूजन) और अशुभ(दाह संस्कार) कामों के लिए विभिन्न प्रकार के लकड़ियों को जलाने में प्रयोग करते है लेकिन क्या आपने कभी किसी काम के दौरान बांस की लकड़ी को जलता हुआ देखा है। नहीं ना?
भारतीय संस्कृती, परंपरा और धार्मिक महत्व के अनुसार, ‘हमारे शास्त्रों में बांस की लकड़ी को जलाना वर्जित माना गया है।

यहां तक की हम अर्थी के लिए बांस की लकड़ी का उपयोग तो करते है लेकिन उसे चिंता में जलाते नहीं।’ हिन्दू धर्मानुसार बांस जलाने से पितृ दोष लगता है वहीं जन्म के समय जो नाल माता और शिशु को जोड़ के रखती है, उसे भी बांस के वृक्षो के बीच मे गाड़ते है ताकि वंश सदैव बढ़ता रहे।

क्या इसका कोई वैज्ञानिक कारण है?
बांस में लेड व हेवी मेटल प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। लेड जलने पर लेड ऑक्साइड बनाता है जो कि एक खतरनाक नीरो टॉक्सिक है हेवी मेटल भी जलने पर ऑक्साइड्स बनाते हैं। लेकिन जिस बांस की लकड़ी को जलाना शास्त्रों में वर्जित है यहां तक कि चिता मे भी नही जला सकते, उस बांस की लकड़ी को हमलोग रोज़ अगरबत्ती में जलाते हैं। अगरबत्ती के जलने से उतपन्न हुई सुगन्ध के प्रसार के लिए फेथलेट नाम के विशिष्ट केमिकल का प्रयोग किया जाता है। यह एक फेथलिक एसिड का ईस्टर होता है जो कि श्वांस के साथ शरीर में प्रवेश करता है, इस प्रकार अगरबत्ती की तथाकथित सुगन्ध न्यूरोटॉक्सिक एवम हेप्टोटोक्सिक को भी स्वांस के साथ शरीर मे पहुंचाती है।
इसकी लेश मात्र उपस्थिति केन्सर अथवा मष्तिष्क आघात का कारण बन सकती है। हेप्टो टॉक्सिक की थोड़ी सी मात्रा लीवर को नष्ट करने के लिए पर्याप्त है।

शास्त्रो में पूजन विधान में कही भी अगरबत्ती का उल्लेख नही मिलता सब जगह धूप ही लिखा है,
🎯हर स्थान पर धूप,दीप,नैवेद्य का ही वर्णन है।

अगरबत्ती का प्रयोग भारतवर्ष में इस्लाम के आगमन के साथ ही शुरू हुआ है। मुस्लिम लोग अगरबत्ती मज़ारों में जलाते है, हम हमेशा अंधानुकरण ही करते है, जब कि हमारे धर्म की हर एक बातें वैज्ञानिक दृष्टिकोण के अनुसार मानवमात्र के कल्याण के लिए ही बनी है।*

अतः कृपया अगरबत्ती की जगह धूप धुना का ही उपयोग करें।

💏 15 वर्षो में लगभग 50 हजार जन्म पत्रिकाएँ एवं 5 हजार से अधिक भूमि भवन का वास्तु निरक्षण का अनुभव।
भूमि भवन खरीदने / बनाने से पहले वास्तु एनर्जी चेक करवाना ना भूले।

🏠 वास्तु सीखें >> 1 जनवरी से ऑफलाइन एवं ऑनलाइन दोनों प्रकार से कोर्स करने की सुविधा।

वास्तु एवं ज्योतिष गौरव – 🙏राकेश जैन हरकारा द्वारा 🙏
राजस्थान जयपुर से >>⏱ दैनिक जैन पंचांग

🏘संपर्क – future Vastu – Jyotish , Pratap Nagar, Jaipur (Rajasthan)

📞Contact – W – 9414365650, 9001169884

Leave a Reply